Subscribe now to get Free Girls!

Do you want Us to send all the new sex stories directly to your Email? Then,Please Subscribe to indianXXXstories. Its 100% FREE

An email will be sent to confirm your subscription. Please click activate to start masturbating!

Neend mei bhai ne khoob choda mujhe

Neend mei bhai ne khoob choda mujhe

दोस्तो, सेक्स स्टोरी रोज पढ़ती हूँ और अब मैं अपनी रियल स्टोरी आप सबको सुनाने वाली हूँ, यह मेरी पहली स्टोरी है. आज जो मैं आप सबको सुनाने वाली हूँ, वो बिल्कुल सच है… आप मानो या ना मानो!

मैं कोलकाता की रहने वाली हूँ, उम्र 19 साल, गोरी हूँ और हॉट भी…
मेरे मोहल्ले के लड़के मुझे चोदने की ख्वाहिश जताते रहते हैं इनडाइरेक्ट्ली…

हमारा छोटा सा परिवार है जिसमें मैं, मेरा छोटा भाई और मम्मी… बस…. जब मैं 7 साल की थी तभी मेरे डैडी गुज़र गये थे. डैडी की जगह मम्मी को बैंक में नौकरी मिल गई थी तो मम्मी ने जैसे तैसे पाला पोसा हम दोनों भाई बहन को…
मैं और मेरा भाई कॉलेज जाते हैं.

आज से लगभग 3 महीने पहले एक दिन की बात है, वो मंडे था, मैं कॉलेज नहीं गई थी पर मेरा भाई रोज की तरह कॉलेज चला गया और मम्मी बैंक में…
मैं अकेली क्या करूँ… बस अन्तर्वासना सेक्स हिंदी में पढ़ने लगी.

मैं तब माँ बेटे की चुदाई वाली कहानी पढ़ रही थी… मैं बहुत गर्म हो चुकी थी, मैं रह नहीं पाई, मैंने अपनी जींस उतार दी और पेंटी के अंदर अपना हाथ डाल कर एक उंगली को चूत के दाने पर रगड़ने लगी.
अब जब मुझसे बिल्कुल रहा नहीं गया तो मैंने एक उंगली को अपनी चूत के अंदर घुसा दी. फिर क्या… बस अंदर बाहर करने लगी.

तभी मम्मी की कॉल आ गई, मम्मी बोली- आज मुझे आने में देर हो सकती है.
मैंने कहा- ठीक है…

फिर मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा, मैं लेटी हुई थी और कब मेरी आँख लग गई पता नहीं चला.
अचानक मेरी आँख खुली, मैंने महसूस किया कि कोई मेरी चूत पे उंगली कर रहा है.
मैं कुछ नहीं बोली, बस धीरे से अपनी आँखें खोली, जो देखा तो मैं हैरान हो गई, ये क्या… मेरा छोटा भाई मेरी चूत में उंगली कर रहा था. मैंने जानबूझ कर कुछ भी रिऐक्ट नहीं किया क्योंकि मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैं जाग कर भी सोने की एक्टिंग करती रही.

फिर क्या… कुछ देर बाद भाई ने मुझे जगाने की कोशिश की… पर मैं उठी ही नहीं क्योंकि जागते हुए इंसान को नींद से कोई कैसे उठाए!
भाई ने सोचा कि दीदी गहरी नींद में है… फिर धीरे धीरे भाई ने अपना लंड मेरे होंठों पर रख कर मेरे मुंह में घुसाने की कोशिश की.

मैंने भी कुछ हरकत ना करते हुए चुपचाप से अपने होंठ खोल दिए और ऐसे खोले कि उसे लगा शायद नींद में ही मेरे होंठ खुल गए.

भाई का लंड मैंने मुंह में ले लिया और मैं चूसने लगी. धीरे धीरे भाई इतना गर्म हो चुका था कि उससे रहा नहीं गया, उसने अपना लंड मेरे मुंह से निकाला और धीरे धीरे मेरी चूत की ओर आने लगा.
दोस्तो… अब मुझे लगाने लगा कि मेरी चुत चुदाई आज मेरा भाई से होने वाली है.

मेरे भाई ने फिर से मेरी चूत पर हाथ रखा. दोस्तो, मैं इतनी गर्म हो गई थी कि मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी थी.

अब भाई बस लंड मेरी चूत पे रखने ही वाला था कि मेरा मादरचोद बॉयफ्रेंड का फोन आ गया. भाई डर गया… जैसे तैसे वो मेरे पास से भाग गया.

मैं थोड़ी देर बाद उठी और फोन रीसिव किया, उसे कैसे भी करके समझाया कि मैं घर के काम में बिज़ी हूँ.. फिर फोन रख कर भाई का इंतज़ार किया पर भाई नहीं आया.

फिर मुझ से बिल्कुल रहा नहीं गया, मैं भाई के पास जाने लगी. भाई का अलग रूम है. मैं जब भाई के पास गई तो देखा भाई बेड पर लेट कर मुठ मार रहा है. मैं एक मिनट तक देखती रही, फिर मुझे चुदवाने की इतनी भूख लगी कि मैं अचानक भाई के एकदम पास गई और बोली- ये क्या कर रहा है तू भाई?
अब भाई क्या करे… उसे कुछ सूझा नहीं… जैसे तैसे उसने पास पड़ी चादर ओढ़ ली.

पर मुझे तो अपनी चुत चुदाई करवानी थी, मैं बोली- जब मैं सोई हुई थी तो तू क्या कर रहा था?
बस मेरा इतना ही कहना था कि भाई रोने लगा- ग़लती हो गई बहन… माफ़ कर दे प्लीज!
मैंने उसे गले लगा लिया और बोली- क्यों रो रहा है, तू मेरा प्यारा भाई है, तेरा हर ग़लती माफ़, बस रोना नहीं!

वो चुप हो गया.

फिर मैंने उससे पूछा- भाई, तूने ऐसा क्यों किया?
वो चुप था.
मैंने प्यार से फोर्स किया तो बोलने लगा- जब मैं स्कूल से आया तो तू सो रही थी पर तेरी जींस उतारी हुई थी, तेरी पेंटी घुटनों पर थी, चूत नहीं पड़ी थी. तेरी चूत देखी तो मैं रह नहीं पाया, बस हो गई ग़लती!

अब मैंने कुछ भी नहीं सोचा, बस झट से उसका लंड पकड़ा और अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी.
भाई बोला- ये क्या कर रही है?
मैं बोली- चुप बहनचोद… कुछ मत बोल, बस साथ दे मेरा!

फिर भाई बोला- बहन क्या तू मेरे से चुदवाएगी?
मैं बोली- चुत चुदाई कैसे करते हैं, सीख ले पहले! मेरी चूत को चाट!

वो मेरी चूत को चाटने लगा, मैं रह नहीं पाई, मेरे मुंह से सिसकारी निकलने लगी- अयाया उम्म्ह… अहह… हय… याह… आ उऊः!
उसने देरी ना करते हुए लंड को मेरी चूत में रखा और ज़ोर का धक्का मारा, उसका लंड मेरी चूत आधा घुस गया, मैं आहह आ आ… करके चिल्लाने लगी.
फिर और एक ज़ोर का धक्का दिया और मेरी चूत में लंड पूरा घुस गया.

भाई मेरी चूत को काफी देर तक चोदता रहा और मैं भी आराम से अपनी चुत चुदाई करवाती रही.

फिर मेरे भाई ने अपनी बहन की चूत में अपने लंड का रस निकाल दिया. एक मिनट बाद मैं भी झड़ गई.
फिर हम वैसे ही लेटे रहे…

दोस्तो, इस तरह से मेरे भाई ने चोदा मुझे! आप सबको कैसी लगी मेरी चुत चुदाई! आप सबको मेरी चूत की ओर से रस भरा प्यार!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.