मेरी Adhoori “तमन्ना”

0
19

मुख्य डिचने मुझे स्मार्ट हू आज की मुख्य घटनाएं एक असली घटना है कि कर्ने जा रहा है। बाट अब पिच मइने यानी 30 जून 2012 की है। मुख्य आजी दिन की नौकरी के साथ ही क्युनकी केवल बीए अंतिम वर्ष की परीक्षाएं वेले वेले, वे इस्तीहो मैने की नौकरी छोड थीं थीं स्टाफ के लिए सिर्फ विदाई पार्टी की संगठित कीजिए। केवल कर्मचारियों ने मुझे हमी प्रभारी तममाना खुराना (उम्र, 30) थी, हमे बाड़ हरिणी (उम्र 30) और हमारे मुलाक़ात उम्र (26)। किशोरों की माँ के अंदर मेरे अंदर मुख्य था। जान मुख्य पहलदारी में शामिल हो गया था, मेरा साक्षात्कार में तमन्ना माँ ने लिया था। मैं कहाँ गया हूं मेरी उम्र की है और मेरे लड़के को लूंगा खाना मुझे पिता चलो की शादी हुई है और मेरी 5 साल की बोली भी है। मुख्य व्यक्ति हमें बताते हैं कि वह ख़ुश क़ुंकी मुख्य बात न कहीं तमन्ना आदमी से प्यार करता था। लेकीन के बारे में बात करते हैं, मुख्य सचिव के साथ रहने वाले लोगों के साथ कूच करते हैं, दोपहर के भोजन के दौरान केवल मुझे काम करने वाले ही दोस्त ही साथियों के साथ जाने वाली गाए गए थे।
एक दिन रुकने के लिए फोन आया, फोन में मेरे माता-पिता से बात करने के लिए मुझे कोई काम नहीं मिला, अब भी मुझे कुछ काम नहीं है, जब तक कि मैं नहीं चाहता था। मुख्य बाउत दोखी हुई कूकी अब मेरे लागे हैं मुझे था कि कल से मुख्य तमन्ना माँ को नहीं देख पागल। दो दिन में तमन्ना माँ का फोन अया अउर कहो कि कार्यालय मेरे नए प्रोजेक्ट शू हुआ है इज़ियली बहत काम आ गई है, तुम कल से आ जान। मुख्य मम ही आदमी बहत ख़ुश हुआ
एग्ज दीन के मुख्य कार्यालय में तमन्ना माँ से मेरा हाथ चावल पचाने के लिए, मेरा ये दोसरा मौका था इलिय्या मुख्य पहल के मुकाबले तमन्ना माँ से जया बच्चा केने लग गए। निशुल्क समय मुझे तमन्ना मैम यूट्यूब पे गाना सुरती थी से मुझ पर भी पापा लाई थी। मुख्य रोमांटिक गाना चलवाता तो माँ माँ को भी मुझ्े आकर्षण हो जाए, लेकीन मेरे बारे में खबर ज़रूरत नहीं पाडी क्युनी तमन्ना माँ भी मुझे देखकर प्रभावित हो, वो मेरे लिए बदाम – काजू और बहुत सी ची चेइन लती थी, मुख्य मणरे थे लेकीन वू जिद केर के मुंह ख़ती ही दी थी थी kyunki मात्र कार्यालय मुझे मुख्य एक एक लडका था बाकि सब मम थी इलीली सैम मेरे लड़के केर वे। मुझ से लड़ने वाले किशोरों की मम (तमन्ना, हरनीत और मांसी) समलैंगिक हैं। किशोर बड़ा खुला थे और खुल बात बात थी। किशोरो ही माँ ने कभी ना काम वाली मेरी प्रेमिका के साथ मेरे पूना था और वो भी मुझे बताता है, यह मेरे लड़के हैं कि मेरे किशोरों की तलाश है। मेरा बॉस बहत ही कामना आदम था हमारे एक दिन तमन्ना माँ को रविवार को काम के बाद, मुख्य भी अस्थायी नौकरी पे थी उसली मुझ भी भला लीया। रविवार को मुख्य और तमन्ना मम कार्यालय का समय पे हुआ तो गे, लेकिन बास नहीं होता था।  

तमन्ना माँ एन बॉस को फोन किया, बॉस ने बटोया की वो नहीं नायगा, जब तक काम करने वाले समय से ज्यादा हैं तब तक पिले को फोन करें, और वो ऑफिस बैंड के के चाला जाएगा। जब मुझे तुम्हारे पास चाली से मुख्य आदमी हाय आदमी बहत ख़ुश हुआ क्युनकी आज बस तमन्ना अराम मुख्य आकेले वे मुझे कार्यालय दे रहे थे 2 – 3 घंटने के लिए सैम नर्मल हफ़्हा, मुख्य अपना काम कर रहे थे और तमन्ना माँ अपना। कुछ दिन बाद तमन्ना माँ बहार चली गायी। थोड़ी देरे मेरे शौचालय अया और मुख्य ताजा होन शौचालय मुझे गया। शौचालय का दरवाजा पहह से से ही खुला हुआ था, जई है हाय मुख्य और कहीं गया है ‘एएएएआईआई ..’ की आवाज़ सुनी। मेन दीक्षा की कोने मुझे कॉमोड पे तामन्ना में बाइथी है है, उडी चट मुझे साहर नाज़र अराही थी, हम पे एक भी नहीं, नहीं थी।
तमन्ना माँ ने कह, “जेएएओ – जेएएओ”, मैने “माफ माम; के के चल गया। मुख्य वापास कमरे में मुझे जकर बह गया था, थाडी छोड़ तुझे तमन्ना वापस रूम मेरी आह। वो कुछ भी बोगी और चिप्पप काम करे लगी गाय दोपहर का भोजन हो गया था। हम डोनो डोज़र रूम में मेरे साथ दोपहर के भोजन के लिए थे चले गेए। जेब हू लंच के किरदार ने उनसे मैने खा “सोर मम, मुजधरवाजा दस्तक केकेके शौचालय मुझे आना चहिये था।” तमन्ना ने कहा, “कोई बात नहीं … इसा हो जाए है।” वैसे भी गलती मेरी है, मुख्य द्वार ताला कर्न भोल गाय थी थी। एजेजी कार्यालय मुझे इंतजार है, हाय बस हम हैं तो हम हैं और कोई नहीं। मेन मम की तराफ दिखाना, अकेले चेहऱ एक एक ज़ह्रिलु सी मुस्कुराहट था। तमन्ना ने मुह्से पूचा, “अंकित .. तुम्हारी कोई प्रेमिका है।” मेन खा, “नहीं माँ … मेरे अभि एकल हू।
तमन्ना: “क्यू ?? तुम्हारी से उमर है, सब कार्न की, फिर कॊ करोगी … … साडी के बाद?

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Badi didi aur uski saheli ki ek sath chudai ki

मुख्य: “मुझे अब तक कोई कोई भी नहीं है..वेई भी प्रेमिका बाना के क्या करेओगा”? तमन्ना: “वही जो सब करते हैं”! मुख्य: “क्या करते है माँ”?
तमन्ना: “इटने भोल मैट बानो … मुख्य अजकल के लडको को सब पट गरम है”! मुख्य: “पटा हन की क्या गता है, यूसेज अनुभव थोड हाय मिल्टा है”!
तमन्ना: “टू ले लो अनुभव … देख लो कोई कोई”! मुख्य: “mam..aajkal की ladkiyaan bahut kharaab होती hain..agar एक बार Humara शारीरिक relationshipban jata hai uski प्रति हम लड़के (लड़कों) jyada pareshaan Aadat पैड जाति हाई, जिसके ना Milne ह्यूम को हो Jate hain..kyunki lakiyon ke माता-पिता unpe zyada dhaan देते hain..ladkiyon ko भी डेर लगा रहता hai ki अगर kisi जान Pehchaan घाव का निशान ne ya uske माता-पिता हमें ko लड़की ne kisi लड़के ke saath पर देख लिया करने के लिए बच्ची khuchi aazadi भी चली jayegi। Ialiye ladkiyaan ek se jyada प्रेमी राखी hai टाकी wo माता-पिता को dikha खातिर की uski Saare Ladko ke saath आकस्मिक संबंध हाई, aur ladkiyon मुझे Hamare muquabe सेक्स jyada होता है .. isliye wo ek लड़के पे नही रहती निर्भर करते हैं। 

अजाल के लड़के भी मैं फैराक मुझे पीछे रह गया कोई लड्डी मिल जाए तो हमारे साथ सेक्स केर लेंगे। “तमन्ना:” बत टू तुम सबके साथ हो लेकिन अगर ऐसा है कि तुम कुछ ऐसी लिड्बी को देख सकत हो जिस्सी शद हो चुकी हो । “मुख्य:” ये इटना नहीं हैै है माँ की मुख्य चीदिशूद लाडकी को पटकर सेक्स के लिए सैकून..यसर अगर भी लियना भी भई क्या मैलेगा .. लाडकी की कौमार्य के लिए हमारे पति ने ख़त्म कर डी .. ए अबमे क्या मजा आयेगा? “तमन्ना: जब सेक्स चुनते है तो कुछ भी नहीं होता कि किसकी सेक्स पार्टनर दिखने में मुझे कैस है .. वो बस हमें पल कू मजा करता है।”
मुख्य: “लेकिन मम सेक्स के बारे में दुहरा गरम है कि हम हमारे नर / मादा के साथ यौन संबंध थे और साथ ही हम सेक्स नहीं करते थे। फिर हमें सेक्स का क्या फ़ायद। “
तमन्ना: फरक पंडित है। सेक्स केने के लिए अपने दिमाग के पेहल से आराम महसूस करने वाले हैं, बस तुम सेक्स के लिए अपना दिल मुझे कुछ पता नहीं, मैट ना न किसी तह कही अहा। ये सुचो कि जो हुआ अछा हुआ। “मुख्य: मम वो सक्ता है आपकी बात मुझे बाँध है, मैं अनुभव हूं कि मैं पट चलेगा, मुख्य बास इटान जाने की वजह से की मुख्य आन्दोलन को ऑफिस मुझे बेथा हू, यहीं सच्चे है। “
तमन्ना: “तुम बुल भी हो क्या यहीं तुम आँखें नहीं, मुख्य भी हुन।” मुख्य: “मुख्य समझा नही मम … आइड की कहने वाली है।” तमन्ना: “आप का बच्चा कि जब तुझे सेक्स चुनते है तू तुझे क्या केर्त हो..पैण आपको कईस कंट्रोल केरो हो ..? “मेन:” वायसे टू थांडा पानी पी ले ला हू..उसे आराम हो जाट हू। “तमन्ना:” और क्या करे ही हो गया था ?? ‘मेन: और टू कुच नाही करतता..आगर जयाद सेक्स च्छता है जो मुख्य रात्रि रात में रुकने के लिए (सती हू वीर्य निकल जाना) हो जाए है। तमना: “बहुत बुरा … तुम्मा सचमुच बुद्ध हो .. टॉम मास्टरब्यूशन (मठ मर्ना) नहीं करी … ..?” मुख्य: “मेन आइके बारे मुझे सना है मम लेकिन कही नहीं थी।” तमन्ना: “कू..आब क्या कया बोरई है, तुम क्या लड्डी के बलात्कार थोडे ही कर रहे हैं?”
मुख्य: “नहीं मैम..मेजजी सागा प्यार है।” तमन्ना: “कभी कोई नहीं हैगा से अजीब टू लेगेगा ही … चलो मियाँ तुला सीखती हू।” मुख्य चोंक गा, मैने खा, “मम आप?”
तमन्ना: “हाँ मेन..क्की क्या हुआ .. ??” मुख्य: “कुछ नहीं मम … प्रति आदमी के साथ तुम दोनों काइसेक सक्से हो … नहीं मैम .. ये नहीं है है ..” मेन अपन्ना मुंह लेते कर लिया और चुपचायथ ग्या।
तमन्ना: “थीक है … जैली तूमरी माजिरी … … लेकिन से से तुझे मुंह करना … मुझ से प्यार है कि तुम मेरे नाम नहीं समझाते।” मैने खा, “नहीं माँ और बात नहीं है..लकीन ..”
तमन्ना: “लेकिन वेकिन कुचा नहीं..तुम आओ मात्र साथ ..”
इटना के के तमन्ना ने मेरा हाथ पक्का और मेरा शौचालय मुझे ले गया। वाशरूम मुझे तमन्ना ने मेरे लिए कॉमोड सीट पे बिथया और खुद घुटनो के बल केवल सामन बथ गायी। मुख्य कुछ समझा नही होता था, मैं अपना बच्चा प्यार करता था और मुख्य आदमी हूं।
उकेड़ तमन्ना ने मेरी जिन्स खोले और अंडरवियर पे हेथ फ़िराने लगी मुख्य मधोष हो रहा था। तमन्ना ने पूचा, “तुम अंचचा थोड़े हैं?” मेन ख, “हां! बहूत! “फर तमन्ना ने मेरा अंडरवियर नेहे की और अपना लुंड अपनाराम कॉमल हेथ ले लीया। मेरा वर्तमान सागा लागा तमन्ना ने लन्दन की त्वचा नेसे की जिस्से मेरा लाल सुपारा बार आ गया। तमन्ना हम पे जेइब फेराने लगी.पिफ़र वो सदेदे को कोनमने लाइ और चुसने लगी 5-7 मिनट बादर मेरा नियंत्रण ख़ाम हो गया और मेरा पाणी यूके मू मुझे हा चुट गया।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Horny Threesome Fuck with a Couple in Bangalore

यूसेन लुंड चट चट के सफ़ के दिल और मेरे हाथ पक्का के ऑफिस रूम मी ले आये यूने मेरी टेबल पे लीट दीया और खुद टेबल पे खादी हो गया। यूने अपनी जीन्स और टी-शर्ट निकल डी अब वही सफेद रंग की ब्रा और पाँटी मुझे थी। फ़िर यूने पेंटी निकल के किरदार के साथ तुझे दि। पेंटी मुझे से खुशबू आ रहीं थी, मेरा सोया हुआ लुंड फिर से ख़ाा हो गया था। तमन्ना ने अपनी चुट का मूड थोला सा खला और हमारा सपना पे दर दिन है। उस्को मजा ए आ रहा था और वो वो झेल उठता था। 10 मिनट तक वो अपनी चुट को सपोर्ट पे रागीती रही फिर वो दिहेरे मेर लन्दन को अपना चाट मुझे घूसने की कोशी का लगी, वो बोर अपर नेहेले हीलें लगी
तमन्ना शादिशूदा थी इस्तोई उसको जिंदा दिक्कत नही हुई, और मेरा लन्ड यूने आराम से अपनी चुट मुझे ले लीया। अब वोक भूलभुलैया ली ले के मन्त्र लन्दन पे उचल रही थी जैसे जैसे उस्का मेजा बुद्ध जा था था, यूस्की गति भरी बद्त जी की थी।
थोडी देबर मुलाय़ा अपना पाण छोड दीया और फिर कभी भी अपना पाणि ही मुझे चुट दीजिये। फिर तमन्ना मात्र अपर हाय देर होइय और मुंह कन्ने लगी, मुख्य भी उस चुंबन कार्न लागा। चूडाई के बाद हीे कब नीद आ गाय मुझ मेरे पिता नहीं था।

loading...

शाम के 5 बजे फोन की घंटियाँ बाजी, हम डोनो की नींद खोली गाय तमन्ना ने फोन किया, फोन हैमरे बॉस का था। बॉस ने बटाया की वो एक एक है जो भी तुम्हारे हैं जो ऑफ कू बैंड कार्न आ रहा है।
सर ने तमन्ना और केवल आम में काम करने के लिए मुझे प्यार करने के लिए “अनीत की तबीयत दोपहर को खारब हो गया था वह कभी भी नहीं काम नहीं है।” आइएस मुख्य बाख गया। सर ने तमन्ना से पुच्छा की कोई भी इच्छा है कि तमन्ना ने खा की थी “ना सर, आज सुधी है, कोई नहीं अया।” ऐस तमन्ना भी बाख गायि
फिर हम डोनो ने अपना कप्पा पाणि और अपना आपको क्या पसंद है। 6 बजे हम डोनो जैन लेज टू तमन्ना ने मुझ से चुंबन किया और मेरा धन्यवाद “धन्यवाद” कहां हमारे दम्म का मुख्य भाग ख़ुश था। सब कुछ ऐसी लगी रहीं थी जीस सपना हो, लेकिन यू साच था। तमन्ना के बारे में मुझे इतनी देर से मसौदा मेरा काम था और आज भी मैं चुट हूं पानी छोड दिया था। तमन्ना ने ये बात बाकि करते हैं शिक्षक मन्दि और हरनेत को भी बाटा दी। किशोर आखी दोस्त और समलैंगिक भी थी।
एक दिन हम किशोरों के दोपहर के भोजन के हैं और वे भी सर भी नहीं हैं वे। आज बोको की कोई क्लास भी नहीं थी इस्तली डालो शिक्षकों मनी और हरिणी भी मुक्त थी। मेरा भी काम जयादा नहीं था। हमने फैसला किया कि एक गेम खेल है, जिस्म पेप्सी की बोतल को टेबल पे घूमना है और हमारी जिस्की टैराफ बोतल रकी यूके जो भी कर्ने को कह जायेगा वो यूसेन करेना हो गया। पीहल तमन्ना ने बोतल को घूमैया वरी मेरी रायफू तमन्ना ने कहा की मुख्य तमन्ना को चुंबन करून। मुख्य चोक गया और मुख्य डोनो शिक्षकों मनी और हरीन को देखे जाने, मुझे पता है कि हम सब पिता हैं और किशोरों के लिए बहुत कुछ है। फ़िर मुख्य ई इतनी की जव ता किशोरो इटना बेशरम प्रतिबंधी रहीं हैं, मुख्य भई बान जाते हैं। मुख्य गैर डोनो शिक्षकों के सामन तमन्ना को जॉर्डर चुंबन किया। मैने 1 मिनट के लिए तमन्ना को चुंबन किया गया राखी जिस्से वो गरम हो गइ और केवल बालो पे हाथ फार्ने लगी। फिर हरनेत बोटले घूमैनी, जो मणि की तारफ रकी हर्नेत ने मांसी से कहने के लिए मेरी लुंड चुन ली
फिरमंसी ने मेरी जीन्स खोली और अंडरवियर मी सिल्ंड निकल के चुसने लगी मानसी बड भूलभुलैया से मेरा लन्ड चुस थायी थाई वो लन्दन को गरीब मुझे मुझ किरदार पसंद करते हैं और बीच में बीके मुझे लन्ड को अपनी जीभ पे थाप थापा रहीं थी। थोड़ी डेर मेरे मेरा पानी मन्दि के केरे पे तापास गया। तेसाररा नंबर मनुष्यसी का था। यूस्की बरी मेरे बोतल हरिणी की ताराफ रकी यूसेन हरिणी को अपी चुट मारवां को कहो हर्नेत ने आपी जीन्स निकल और नूर लन्दन पे आकेर बहत गेय और भूलभुलैया से उहल उचल के चुट मारवाणे लगी। हरनीत को मुख्य बुरा बहन मंता था, लेकिन से इटना चड्डा हुआ था था कि कोई रिश्ता नजर नहीं आ रहा था। खाना बोलने के लिए आप कितने ही क्या जिस्से साथ हंस हैं, कोई रिस्ता बन्ने है और उकेके लिये हमेरे दिल मुझे बहुत ही उतावला है, मुझे माचने में जयादा माजा आटा है। कभी भी केरे के देखने की कोशिश करो। हरनीत चुट मारवाते हुए गरम हो गया और अपना अपन कुर्ता उत्सार और ब्रा को खो दिया। अब वो केवल चेहरों को अपनी चोचियो मुझे दबेन लगी उस्की choochiyo की mahek मेरे madhosh kiye ja rahi thi।
मुख्य नंदना बाके की ताऱाकी कोचुईओ को चट्ट़ा था – कातफ़ाा था। हरनीत पागल हू जा रहे थे और जर जोर से चुट मारवा राही थी। उस्का पाणि चुट चुका था लेकिन वो फ़िर द्वि मुझ्से चिप्की राही। तमन्ना और मानसी ने उस मुज अलगा की औ और टेबल पे लीटा दीया। मानसी और तमन्ना डोनो हरनीत की चुट चटने लगी, हरनेत सीकरारीयन ले राही थी। उसके दोस्त डोनो हरिकेत की चुचेत चुसने लगी मुख्य वाही बेटा आराम से हो गया था और भूलभुलैया से किशोरों को देख रहा था। मेरी आँखों के साईं लाइव लाइव ब्लू फिल्म चला राही थी। थोडी देरे बाड़ हरनेत उथि और केवल आप ही एक ज़मीन से प्रति घुटने के बाल बाई हुई हैं। फिर वो मेरी लन्ड चुसने लगी तमन्ना और मानसी एक दोसरे को मिले थे कि थे और भी एक दोसरे की चुट मुझे अनगली दाल के मसालेदार थे।
हरनीत घोड़ी की ताऱह़ैत गाय और आपी गांद को मेरी या केर हीलन लागी, जई मेरे निओता (निमंत्रण) दी रहि हो। मैं अपना और मेरे दोस्त गंगा मेरे दालने लागा, जेसेज मेरे मेरा लण्ड हरिणी की गांड मुझे ग़ास हो गया था, वह कहने लगे, हर्ने की चीख निकल होती है। 

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  सेक्स की भुख मिताई

मेन usse एक बार अपना लंड wapas बहार niklne ke liye poocha lekin usne मन केर दिया aur baar baar लंड ander ghusane ko Kehti राही। Aakhirkaar मेरा लंड Harneet की gaand मुझे poora दाल गया aur मुख्य jor jor से Dhakka maarne लगा, अब हर्नीट को भी maza आने लगा, aur wo भी muhje baar baar Gaali डी डी ke चोदने के liye uksa रही थी। वो keh रही थी “Fuck..Fuck .. भाड़ में जाओ मुझे थोड़ा कमीने .. Fudk me..O हाँ .. आह ..” ऐसी मस्तूल Aawaz sunker मुझ्े भी जोश aata ja रहा था। मुख्य भूलभुलैया से हरिणी की गांड म दारोहा था।
थोडी देरेबद मुख्य हरिणी की गांड मुझे जाध गया। हरनीत थाडी कर के लिए शाहंत होकर बत गेइ तभी तमन्ना टेल (तेल) ले आयी, फेहेल टू यूने मेरी लूंग चोउसा, यूकेके लड पे टेल से मलिष केर्न लगी। मानसी ने मुझे बकी के कापदे के लिए दिये और मेरे ख़ासकर दिये। अब डोनो मीर शिर पे दूर से मलयाष केर्न लागी। मेरी मालिश कार्न के बाद एक डोनो ने एक दोसरे की चुट और गांड पे दूरगाया। उसके दोस्त मानसी और तमन्ना ने केवल शिर से लिपत गेइ और डोनो अपन जिस्म को जिस्म से रागदार लगी। मुख्य करने के लिए सत्वे आस्मान पे पनहुक चुका था, और जहां से वह नेसे नही होता था था। फिर डोनो गौदी की तारहथ गाय
पेहले मैने तमन्ना की गांड मुझे लुंड दालने वाले क्यूनी पेचली बार गांंड नहीं मारी थी। जैसेज जय मेरा लन्ड गांंड मुझे जना बाना रहीं था वैसे ही तमन्ना का दर्ड बधा था था, एक वक्ता से आयता है कि तमन्ना मेरे लण्ड निकलने को कन्ने लगी, मुख्य भई लंड निकलने के लिए ताइआरे ही लेकिन हरनेते ने मेरा कर दीया और तमन्ना को समझाएं लगी की “अगर ऐसा गाण्ड नहीं मारवेगी टू गैंड मर्ने का मजा नहीं पगंगी और अपना गांव मेरे घर में भी होजी से जिंदा दाद आज हो रहे हैं, अभी भी जया हम इंतक़त करते हैं, शुभराता के दिन भी टुन गंगा नहीं मारवेई थीं तभी आज तू हाल है। “तमन्ना मन् गाय।  

हरनी ने मेरा प्यार पक्का और उसके साथ मेरे दिल में मुझे घुटने लगी। क्या बार तमन्ना ने दर्ड बड़काट कीया और लुंड को सब गांद मुझे ली लीया है। अब तमन्ना को भी मेरा आहा आ रहा था, वो भी मेरे जरूर से गंगा मर्ने को कह रहीं थीं। हमेशा भी तमन्ना की गोर भूलभुलैया से गंगा मर रहा था। कार्रेब 15 मिनट के लिए तमन्ना की गांड और उड़ी uski गांद मुझे हाय पानी छोड दीया। मुख्य बहत थक चुका था और अपना फरश पे हाय देर गया। अभि मानसी की भी गन्द मर्नी रहती थी, मुख्य agli बंद गंगा मर्ने को कहो, लेकीन वो नहीं होता था.मेरा लन्ड भी इतना गया था … अब समझा मैं आ रहा था कि जो लॉग गिगोल हो गया उके काम भी असन नहीं हो । मेरे प्यार को ख़ान केने के लिए किशोरों ने अपन जोड़ी के तलवे पे दूरगाया और केवल अपनी बेटी की मौत के मुहल्ले के लिए मस्तिष्क के लिए तैयार हैं।
Unke जोड़ी कि राग से मेरा लन्ड गरम हो गया और एक एक फर फर खड़े हो गया। मानसी गौदी की तार्हफ़िश पे बुद्ध गाय हरिणीत और तमन्ना डोनो ने मेरे मुकुट और तमन्ना ने मेरा लण्ड पक्का के लिए मन्नी की चुट मुझे दाल दीया। डोनो ने अपना हाथ मुझे चौटा पे रख दिये और ही ढक्कस मार्न के के साथ ही डोनो भी मेरी चुटके को आजी की ताराफ दबती जिस्से मुझे ढके मुझे जान बनी रहे और मेरे लन्ड यूस्की गंड की और गरीब चले जाये। कुछ डेर कि कोशी के लिए मेरे लन्ड गरीब मोनसी की गांड मुझे था। मानसी मेरे बार फिर तेज ढाका मर्ने को करने वाली थी, अब मुं भी जोश आ गया, मुख्य गरीब तक्तत के साथ ढाका मार्न लेगा, मानसी की चीखे निकल रह थी, “एएएएच..एएएच। चोडो..मेह ,,, ANKIT..aah .. एह .. “। मैंने भी गरीब स्पीड पक्का ली, मेरा तमन्ना और हरनीत की मदाद की कोई ज़रूर नहीं थाई। मानसी को मैने इटना भूलभुलैया से चुडा की उस्की गाण्ड मेरे मुते भी दीया था मैने। मानसी ने मुझ से कहने के बाद मेरा अपना लड़की वाला हो मुख्य अपन्ना लुंड बहुर निकल लू।
मैने वैसा हे किया, किशोर शिक्षक (मानसी, तमन्ना और हरिणी) केवल लन्द पे ही तार है तोत पाडी जीर तारु भुकि चेतनियान अपन शिकार को जापती है। किशोरों की लन्द को पगलो की तार्ह चुस राही थी। मेरा पाणि तमन्ना के मुंह चूट्टा, जीसोक हरिणी और मानसी ने भी मुंह से मुंह (एक दूसर के मुंह से लेना) को साझा किया। “अधूरी”
हमारे दीन शाम को तमन्ना माँ ने वो वो की बोतल मंगाई, मुख्य शराब नही पेटा। फिर भी किशोरों ने मुझे एक एक पिता के दिन और हमारे किशोरों की बेररी मैं लण्ड को मूर्ति मरने के लिए दुनिया से लड़ने के लिए (मेरे लिए) निकल की तरह मुझे मिल गया। और किशोर ने वें पग मिल बन्त के साथ लीया मानसी और हरनेत कार्यालय से निकिया चुकी थी, हम वक्ता माइन तमन्ना मम से कह, “मम आप टीचो का को बोतल वाला मौका हो गया था लेकिन मेरा रिहा गया। तमन्ना ना कह, तुमरे मौके के लिए बोतल की जरुरत नहीं है, बोले क्या चलते हैं मुझ्से। मुख्य कहानी, “मम मुख्य ऑपके सथ गरीब जीवन सेक्स कर्ना चहता हुआ”।
तमन्ना मुस्कुरायरी और बोली के मुताबिक, “गरीब जीवन का कोई भी नहीं क्युनी मुख्य शद्भूदा हुआ, लारकिन तुझे जब तक नौकरी कर रहे हैं तो टैब तो तुम साथ सेक्स करेते हो, और मानसी और हरिणी के साथ भी।” मैने तमन्ना को अलविदा कह और घर आ गया। हमारे दिना के लिए मेरी लॉटरी लगी जाने वाली थी, मुम तमन्ना, मानसी और हरनेते के साथ सेक्स केर्न का मक्का मिल गया था। लेकिन साबे जयादा सेक्स मैने तमन्ना के अथ की और भी मेरे सारे जयादा लोग भी आम के साथ आते थे। हर भगवान के लिए आप नहीं हैं, केवल बीए के अंतिम वर्ष के परीक्षा में आये हैं और उनकी परीक्षा की तैयारी के लिए नौकरी छोडनी पाडी क्यूनी हां मेरा दसरा साला था। पास होना ज़रूरी था। मेन जॉब चुड दी और परीक्षा की ताय्यारी कर्नगा, तमन्ना से भी बैटिन हॉट रही
परीक्षाओं में हो गया के प्रमुख मुख्य तमन्ना से मिले थे, वो मेरे देखे बहुत खुश हैं, हमारे बल्ले की क्या हर दिन नौकरी छोड दी है और वो काम और नौकरी कर रहीं है। तमन्ना ने ये भी बटाया की अब कोई नई लडा नहीं है है और साहब मेरे काम के लिए रफ़ी की इतनी है। मुख्य बहोत खुशी खो और चाला गया। काफ़ी डिनो से तमन्ना का फोन नहीं आया, मैने ही तमन्ना को फोन करने के लिए, हमारे बल्ले की ची मेरी जिंदा कैसी और न ही लाडके को लीक हुई है जो जीसीए कर चुका और हमारे ऑफिस आई.ए.की बाहुत ज्ञान है।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Hot Fuck Kahani with Housewife of jaipur

मुजु बाट बura लौंग और मैने “ओके” के लिए ही फोन रख दीया। तमन्ना से मिलेगा ये एक ऐसी नौकरी हां मउका था, जो अब नही है। मेन ‘FACEBOOK “पे भी एपीआई आई डी। बाना राखी है, हमारे मुख्य तस्वीरों को अपलोड करने वाले कलाकारों, तमन्ना भी मेरी आईडी से जोड़ते हैं, वे एक तस्वीरों की तरह “पसंद करते हैं” और उनके “टिप्पणियां” भी करते हैं, फिर भी फेसबुक के साथ ही उनके बैंड की भूमिका भी होती है।
अब सब ख़ाम सा लग गया है, पटा नहीं अब usse कब मिले पाउंगा, कही मिल पागल भी नहीं है। बास आइ तमीना के सथ मैने हम कहानी पसंद है। तमन्ना ने कहा था कि “तमना” कबी गरीब ना होती ……….. “!!!” कहानी पाधे के लिए अपने विचारों को मुझे जार पसंद है, ताकी हम अपके लिए रोज़ और साथ ही काम करने वाले लोगों के लिए धन्यवाद

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here