माँ की गांड मेरी जान

0
314

पिता युहां है या माँ या मुख्य लाहौर के मुख्य रिहाई हैं। मेरा ज़ियाद गरप पर ही थाता था या मेरी माँ मुजी ज़ीदा बहार जानी नी दीदी थीं सर मुख्य या माँ गर्जन है पिता अमरीका हैन या साल मुख्य एक बार अने हैं ..
हम अई नाई नाई डिफेंस पाईव हाई थे आपकी कोई दोस्त बी न्यू थी या न ही कोई जीएफ .. इज़लीए मुख्य मुथ मार्च कार गुज़रा करे था। एक दिन दोपहर के वक्ता मुख्य बिस्तर पर लांगा सोच आरए थी के केएससी चोड जई कोई जीएफ बी न्यू हा या अजाल गारि ब बुट ही..मैन लला हुआ था था मेरी मम्मी अगाई। मम के बेरी मुख्य बटाउन यूके 38-30-42 hy..or uski गाँड को बुरी हाई केसी का का पानी निकल दी गई थी। एक एक तांग पाजामा जो सफेद रंग का था या साथ फिटिंग वाली कमज देखने वाली थी मैरी पासे ए कर अपनी गैंड मेरिए टेरफ कार के बेथ गाई या बटेन कर्नी लगी। पंजाब के मोटी गंड मरी सैट हूई टू मुजी बट अचा लागा.मैन न्यू साइड बदली या मम्मी की टैरफ मुह्ली करी जेल सिरी मेरी लन्ड मम्मी की गैंड की सैट टच जानी लागा।
लेकन माँ अंजान थी शैद जेकी जेन मुख्य एसा कुं की थी..उसदीन अगली बार की माँ की गांड सई तारखा दीपक ऑर मेन यूके दिनाना ह्यूगिया.मॉम मैरी पास बेथ्री फ्रैं न्यूज़ पेपर पार्नी लागी.फ़ीर यू ओथ कर जांलिगी टू मुख्य एनवाई यूएसबी पेचिस सि गंड दिखी आफ़फफफ मेरी टू जॉन निकल जी इटनी बरी गंड दीर किआ अब शालवार उतार कर औरार डाल डन पर मजबोरा था। माँ कमरे में बहार गाई या मुजूरा जाग लगीई विकी जरा बॅट रवि ना बीटा … मनी बोला जी अाहर गेला गया मम्मी ना बोल क बाज़ार कपास काम हो मुजी ला जओ..तब मुख्य निकी बाइक निकली टू दीन जब ममरी पेची बैठी मजी आओ था जब माँ की नाराम गांड मुज एस टच हॉटी टू मजा अजाता। न ही शॉपिंग की या घर में किसी भी क्यू लियरे बाइक पर बैठा हो या माँ एक सथ जर कर बैटी तेरा। मम के स्तन या गांड की वजा मेरा लन्द तन्त्र बंगाई था पेंट मेन..पीआर रास्टी मेन एचनक ब्रेक लागाई टू मैरी सथ लैग गई मेन टू वाहन ई फरीग ह्यूज पेन्ट मेन ..

Must See:  मेरी वाईफ को अंजान से चुदते देखा

कहानी पसंद नहीं है? अधिक विकल्पों के लिए यहां क्लिक करें
फर गार जाने को बदलते हैं … रुकें तो मुख्य सोनगी के लिए मम्मी बी बेड पर अगाई या बोली अजे बत ठाक जीएएन आईडीआर ई सजती हैं..मेन एनआई बोला एपी जाओ मुख्य बहार लात जाट एचएन.मॉम बोली नाई ईद्रे ई सोजाओ मम डोज़री तारफ मुहर कर की सोगाई मुख्य जिंदगी कहां की की गंगा मेरिए तार थी से मुख्य एनवाई यू के लिए मेरा लुंड खाहरा ह्यूजेस। मुख्य एन हिमतमी की या लुंड पैन्ट साइ निकल कर माँ की गंड की सात्शी जकींन बीच की मुख्य राखी व्यास लिंड को राखी हाय मुख्य से स्वर्ग पोहंच जिआ आफ़फ़फ की मज़े थोड़ी माँ की मोटी या गोरी गांद का.मैन एगी पेची होनी लागा या फॉरग ह्यूगिया या पीते हैं ना चाला वाहन जाघं मुख्य हाय लण्ड रक्षा की हि सुजीआ .. शुभ जब उथ मेरा लंड पेंट मुख्य था या माँ बी पास नाई थी ..
मुख्य दूर गया क माँ सोया री री होजी ..मैन बिस्तर स्यू या बहार गियास डेखा मम्मी रसोई के मुख्य ब्लैक तांग पजामा या सथ कुर्ता खिलने खाना बाना री थी..सस्की गाण्ड शहर को निकल हुई थी..मॉमी की गंगा मेर taraf थी ..मेन उकेकु देख कर मस्त हगिया या बंट मेन जे कर लुंड को पूरे लोगै या बाड़ agya..Main mom k pas gia or lund ko pent sy nikal kar ma ka kurta utha jkar ma ki pajamy k sath laga dia ufffff maza tha kiya ..य सब इटनी जल्दी हू कर पट ही ना चाला .. माँ नाय बोहट रोका के बीटा ये थेक नी हाई बोला तेरी गांड हाय एसी हाई मेर जान जान करेुन आइ सीडी बिन मुजू सिकून नी मैली जी मेर को कोटा वाली पोजीशन मुख्य किआ या अपना लंड जिसको पूंछ लगा था माँ की gaand कश्मीर अंदर jatky एसवाई डाला 2 इंच अंदर जिया या माँ की चीख निकल गाय aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh बीटा phar Dega किआ apni माँ की gaand wo के लिए …? मुख्य ny PHR jatka माँ चीख Uthi saaly अराम करने के लिए Lagaya एस रंडी नी हें तेरी माँ एचएनएफ मुख्य ना प्यार लुंड औरार कार्दिया … माँ को बी मजा ऐनी लागा। पंजाब औरर जिया को वो मजा ऐया जम्मू के लिए लाईकी ना नई दीया .. ..अअआआआअअआअआअआअअहह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हहैहैएआआआहाह्ह्ह डीए है गंड को वे तिरी हाइ..मैन ब जोश मुख्य अग्याह माँ म जर तेरी गांड टू मेरी जान है मेन इकी बिना नी रीह सक्ता ..
माँ: हां बीटा अपन्ना लन्दन है और फिर ई रक्खा करना ..बिहात मजा अरा हा। अआआआआआआअहाह्ह्ह ..  

Must See:  Antarvasna Hindi Font Stories मेरे सैंय्यां की छोटी पिस्तौल

मुख्य नं जाटकी मोर्नी ताईज कार्द्ये या मुख्य एनओ बोला माँ मेरा पान निकलनी वाला हा माँ बोली एंडर ई चोर डी बीटा मुख्य माँ कश्मीर ई पानी चोर दीया। या माँ के ऊपर गिर जीआ.मॉम केटी एजे टू न्यू मेरी फ़ॉर डि .. मुख्य बोला माँ तुम मेरी जान हो या टूमरड़ी गांद से मेरी जिंदगी हाइकेसथ मुख्य नी लॉरा माँ की गन्द साईं तारिखा रक्षा या यूसी यूथ रूम रूम लीवा जीआईएओ या लोरा अन्दर राखी कर ई सोजी .. प्रधान मुख्य या माँ गर मुख्य ख़ुश ख़ूल कार रेहती..माइन ने माँ को शडी का बोला..जोशी बाब बाकि कहानी अगली बार..आप बीटीएई आप मेरी कहानी कसी लागी? मुझे सिर्फ फोर्बसेक 2711@gmail.com पर मेल करें। कहानी पाधे के हैं मेरे विचार की टिप्पणी मुझे जार की तरह, ताकी हम अपके लिए रोज़ और behtar कमकुश कहानियां पेशे खातिर – डीके

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here