थी से निशा सरफ 16 सोल की, पर ना जने कब

हर हाफ़े जब भी वो आइने के समने खादी हॉटी, अपन शर्ट उटाती, यूके माँ ब्रा की बॉर्डर के साथ उधर आते हैं। वो क्या नहीं है, फिर भी ते का उपयोग करें मम्मी पास होता और नहीं भी। कब कबी, जब वो मुझे मेरे गरम करने के लिए अंजन मर्ड यूके ममे ज़ोर से दबते और निशा के जोड़ी के बीच भारत की जवान चुट जायेंगे। लेकीन जब वो कपड़ों के लिए जा रहा था, जो पोशाक का उपयोग करने के लिए पास करें और हम बटन बटन नहीं गए थे, हम मममे बटन को डोनो बजू से खींचे और ड्रेक के लिए तैयार हो गए थे। यूके छोटा 5ft 2 इंच का काड, यूके 26 इंच का नाज़ुक पालतू, 38 इंच की काम ठीक सेक्सी थी, पर यूके मैमे 16 साल की उमरे में 38 इंच के हो चुके हैं। खैर, मेरी हाई गलती है – निशा नहीं सोचा
उस्की गल्ली कुच तारह ​​शू हुई …।

2 सील फरहे की बात है … निशा को स्कूल में संगीत की प्रैक्टिस के लिए जल्दी जान था। वो सबह 6 बजे की बस में जेन वाली थी, पर घर से निकलने में डर हो गया। वो बस पदने के लिए रास्त में भाग राही थी। किस्मत से चालक ने बस को रोका और निशा डबल डेकर के फेहेल पुरुष पर विजय जी। इटनी जल्दी सुबा बस में डू लेड, और कोई नहीं था। वोह हफ़्ते हू बस की पिचली सीट पर बताना गेइ उके चेहरोन से लैग़ा ते था कि वो लड़के 18-19 साल के थे। शायदा वोह कॉलेज जा रहा है? वो क्या लड़के अपन आप मुझे बताते हैं, पर जान बूजकर ज़ोर से बात कर थी, तो रात सूरज की खातिर। एक बोला – सली को दीक्षस रास्त बराबर भाई? देसरा बोला – क्या मममे हैं क्या ना ना? इटनी उमोर मेने बडे बड कालिंगार ?? सली चुदी हुई लैग्ति है फ़िर डोनो में पाद और बोले हैं – चड्ने में किस मजा अटला ना? चट मुझे थोकते थोकते यूके गुब्बारो को दब दबा के हमे निप्पल को ज़ोरो से धोना चहिये, जाइए हम टैबेल में गाई को हैती नहीं है। ये बोले वो भी और भी ज़ोर से हैन लैज।

निशा शर्मा राही थी पर उपयोग ये सूर्यके मंगा भी आ रहा था। आज तक किसी लड़के ने उची मारजी से नहीं चुआ था का उपयोग करें हा, भीड़ में कही मर्द उकाका फयाद उथेट, यूके ममे और कमर बोपू की तार्हा डबेट और ऊर गायब हो जाए। और निशा के गरीब बदनाम में सेक्स चढ़ जता था। पर लाडकीयन के स्कूल में पढने के करन काकाली लड्कोन से आह तुल नहीं पडा था। यूस्की तांग ब्रा मेरी मूक निप्पल खाड़े हो रहे हैं और नूर कपाड़ो से जुड़ीयन की तार्ह ख़िल होती हैं। निशा ने एपन शर्ट मेरा हाथ दल्चर अपन निप्पल की चिट्टी कती यूसी वक्ता एक लड्का मुदा और मुस्करय निशा जाफ़ोड़ा गाय और साहब अपन हाथ शर्ट से निकल कर खादीकी के साथ जाखने लगी वो लेडका ज़ोर से बोला – बेबी, मैट चहिये क्या?
निशा हंस पादी और लाड़के की नज़र से नज़र मिलिए, फिर नाझार झाकै, और अपना अपन दाटन एपिन निकल हंट को चाबाया।

वो लेडा एबी निशा के बगल में मुझे मिल गया और उसके बदत बोला – असलम। निशा नेहेथ मिलै और अपने आप को परिचय कर सकते हैं और बोली – और अपना नाम क्या है? असलम चिढ़ा हुआ रंग – क्या हो सकता है? क्या मैजीद सुना क्या? तेरे को भी पूख रहीं है! मजीद हसा और अगली सीट पर मुड़कर गया गया, तोवी वो निशा को डेखा खातिर। मजीद बोला – क्या बच्चा, क्या करते हैं क्या? निशा अब्बाबा गेय असलम ने निशा की आँखों में गोबरराध पाधी और अपन एक हाथ यूके पेठ पर राग और बोला – श्ह …। गबरीन की कोई किताब नहीं क्या किसी लड़के ने कोई नहीं किया था क्या? ये केहे हू अस्लम ने अपना दोसरा हाथ निशा की छत्ती पर अचानक तारी हुई, ना तो बहुत बड़ा था, ना तो बहुत नजुक। निशा बॉलि – हा, भीड़ मेँ मर्ड नेहेथ लागाय है, पर तारा नहीं है। माजिद नी निशा की एक चुच जोर से दबेट डबेट बोला – आंखों वाला बच्चा मारक और मौका मिले हैं ?? निशा शर्मा की मुस्कुरायई असलम ने हमें निप्पल चिचि और जल्दबाजी जल्दबाजी – बड़ी शर्ममती हो जानीमन हम डोनो के संन नंगी फंगी खादी हो गए हैं, लड़की के नाचोगी टैब भी शर्मोगी क्या हैं? हम्म ?? ये केहते हू मजीद और असलम डोनो ने हमें एक एक निप्पल को अपना हौंस में लीया और निप्पल के सहारे से यूके ममे को धापधाप हीलें और अपना गाना लेगे – चोली में, ताहिही ही ताब्बै ताबाआआहाही।

एइज शुरू हुआ निशा केममो का रोझ मालिश वो असलम और मजिद को सुबा मिल्ती, और जहां वाली शाम को। काभी पार्क में एक कोने में मली की जोशीडी के पासे, डोनो यूकेका शर्ट वोल्चर यूके मेमोजो को आर्ही तार डाबेट, रैगेटे, चुंबन कार्त, चुस्टे, कटे, खेल – 2 सल ते चट्ट़ा ये खेल। 32 इंच की छटी अब 2 सोल खराब 38 इंच की हो चीकी थी। उकाका आकार का आकार सी से अब तक तो चुका था। अब वहा कॉलेज जेन लगी – यूसी कॉलेज में जीसमे असलम और मजीद लेगटर 4 सल तू विफल हो गया है। अब वहीं अंतिम रूप में, और निश्चिन्त रहें

टैब शुकु हुई निशा की गति …

एक से नहीं

क्या से नहीं

कफी से

 
निशा की दस्तान एक या दो बक्साइन में पूरी नहीं है, तेईईई तारारा जईस कोई ख़ूबसूरत लड्डी या आर्ट सर्फ एक या तो दो नहीं चुनती है। ख़ैस कर जाब लड्डी निशा जयाई हो, जिस्के लीये एक मर्ड कफी नही, अबी लादीकी की टू बार बार, हर बार, हर जागर, हर सदड़ी काई मर्दों से चुदाई होती हैं। और सरफ चूथ ही नहीं, मर्ड यूके मोहो में और गोर को भी बारबाड़ का है। खैर, ये करने के लिए क्या बात है।
आज से निशा 16 साल की है। यूस्की चुट अब तक कुंवारी है। हा, जब भी असलम और मजीद केके ममों के साथ मस्त कार्ती ही, यूस्की चट मुझे से पानी चुटता है, पर आइके अल्वा निशा को भी ये कोई भी नहीं है कि लाड़की और औरत बीच बीच की क्या है। यूसे तो ये भी नहीं किया गया है कुमारी चुसके किसे है। जब भी अपना काम करता है तो हम खुद को ख्याल करने के लिए कहते हैं – साली एक दिन में चुद्दवा की क्या याद राखी। पर ना जने क्यो निशा ना एक या तो कोई भी नहीं जो की क्या मैट है क्या? कॉलेज का अगली दिन … निशा का दिल से धड़क रहा था। वो पहलू कब लड्न के साथ एक ही कक्षा में मुझे कोई बात नहीं थी। आज उकता पहहा दिन था। निशा ने साचा – क्या मुजीद और असलम जी और खुद भी मिलीज? क्या वो भी मेरी मेरी क्या साथ है, वह कहती है? किती नादान थी निशा !! काया मलूम था की अभिहारी को शुरहत भी नहीं हुई थी – का उपयोग करें कि मेरुम थी सर्फ करो महोवन में वो पुरी तार रांदी प्रतिबंध जायगी और हमारी गाँधी का चीद हमें चुट के चेड से भी बड़ हो जाएंगे। ऐरे, यूएई टू ये भी नहीं तोलमम थी की चुडई कहता किसे हैं! बस, 1 हफ़्ता और … यूरे दुलहो हो जयेगा की सेक्स सर्फ मेमोगे के साथ साथ नहीं आता है। मामों की दबई से शुक्यता है तो हमें गोर बरण की बारबड़ी की। अस्लम और माजिद प्रोफेसर। अर्जुन बिलास की केबिन में हुई थी। अर्जुन साहब के प्रोफेसर के लिए था, पर समान रूप से, महाविद्यालय में जहां नहीं थे तालुका था- बाम्बे के केन अलीशान को भी उन्की मेहरबानी से चुले थे। बाम्बई के अंडरवर्ल्ड और नेट एसएआर अर्जुन बिलास से नई लडकीयन की सप्लाई लेटे हैं। आपूर्ति की व्यापार में अर्जुन न करी कड़ो रुपे कामे थे, अलिबाग में बांदा बंगाला, बम्बई में बड़ घर, अलीशान गाडी … और हर रात नाली लड्डी असलम और माजिद प्रोफेसर अर्जुन के चित्ती थी, और क्योना ना हो? ज़्यादतर लाडकीयन भी ट्रेन के लिए बहुत ही लंबा है। लेकिन पिचले 2 सोलन से कुन्वार लैडलीयन की आपूर्ति बैंड हो चुकी था। जस भी अस्लम-माजिद लेटे प्रोफेसर के पास, वो सारी की सरी फेहले बारबड़ हो चुकी थी। अर्जुन फिर भी एक लाडकीयन को चोदा, अपन दोस्ती से बाटा, लेविन नावी लड्डी के लिए, उके लन्ड बारन्स से तारों में था। नाणी की तसवीर दिखने वाली अर्जुन का लाउदा अप्नी पंत में खड़ा हो गया था। सा ताक्का शुद्धि ही लादीकी – असलम बोला ।

अर्जुन को येकेन नही हो रहा था! छुटी को देखने के लिए यूएसकी? – अर्जुन बोला – काइसे के सक्टे है कि से कोई नहीं है? ऐरे सर, एक काम करे ना, यूको चख लो पहल, अगर चट फूटकार ख़ुंजी नहीं हुई तो चटनी देना पैसे! हम कह भगत जा रहे हैं? हम लड्डी के साथ 2 सील से खेल हैं है सर, सरफ मैमो के साथ, ताकी का उपयोग बेचने पर सिचा मॉल मिल खातिर। छोटी मममी वाली लाडकीयन का अजाक कहने के लिए किमट मिले हैं? 2 सील की मेहंदी लगी है, सेनी की मैली, चुसै, दबई करके आने से उपयोग में बदा कर दिया है, और एक बार भी इस्तेमाल नहीं चूदा – ना टू यूके को ना ही चुट / गांड को.अर्जुन के जमीन की टॉपी अब जिली होन लगी वोह लाडकी को आईआईआई वक्ता चोदना छाता थी। असीन और मजिद को 20,000 दिये और बॉल-बाकी के लिए 80,000 रूपये गारंटी के साथ हैं। जई है। अस्लम-मजीद कामरे से प्यार करती है, अर्जुन ने अपना डोनटोन फोन तक – यार, क्या शाइवर को क्या कर रहे हैं? चूड़ी पार एक हैं क्या? कुंवारा माल मिलह है एक लाका का दाम है सब मिलकर बछे से आधे रास्ते … पट नही, सबको फोन लग रहा है। 10 जनवरी से 10 हजार मेन्ने कुन्दी मिलिएगी अर्जुन का दोस्त बोलता है – नहीं, येह से ज्यादा मेहनग्राम है। मेरे बजट से 5,000 रुपये ही हैं। अर्जुन बोला – याकिन कर तारिक, ऐसा माल बार बार नहीं हुई। और सूरज, लादीकी गरीब भाक है चाएद का मटलाब भी नहीं मालूम उपयोग हम सबको मिलके सिखाणा उपयोग करते हैं। तारिक का लौड़ा ये सूनकर खड़ा हो गया और वो बोला, ऐसा है। मुख्य 20,000 कलाकारों को टायर हून, अगर अमरीकी फेहेल मेन मारू से। अर्जुन हंस और बोला – सरणी पागल हो गया है क्या तुला? कुंवारी हैं लाडकी, छोटा लूट जान चहिये औरार, वर्ण फाट जाने के लिए। ताराक अपन 10 इंच लम्बे और 3 इंच मोटे भूमि पर हाट रागड़े बोला – 25,000 बोल, मंज़ूर है? साला behod कर देगढ़ी वाली – अर्जुन बोला और वादा डोनो पान पेड, और अपन एपन लाउडोन को बेबी से मसलेने लेज … शनीवर के इंन्ज़ाजर मे। निशा मजीद और असलम के साथ राष्ट्रीय उद्यान में एक शाँत को मुख्य बात थी। अस्लम बोला – शनीवर को क्या कर रहे थे जानीमान? निशा: कुच ना, जानमा दीन मेरा मैरा, इतनी सारी रात की सहिलियंस की सचित्र तस्वीर दिखने के लिए। माजिद: आहा, अब कॉलेज में मुझे अकेले प्रतिबंध गाय के लिए अपन यार को भू गिया कया निशाः नहीं है, क्या आप – आप को कितने अच्छे रचित हैं कि हमारे दीन के लिए हैं? असलम ने मजीद को आंख मारि और डोने अपनी गाडी नज़रोन से निशा के बदान को देखकर मुस्केराय। माजिद बोला: अपि 17 सालों की सल्गीर सरफ चित्र तस्वीर manaogi ?? Chhii !! हम्ने ने निशा अब्द बडी हो गइ हैं, तो कुच औरतन वाली बात करेगी करने के लिए निशाः उम्मम .. क्या मैटलैब? असलम: अरे माजिद, किस पेले में मैं बात कर रहा है ?? अपनी ही निशा है, समझा उसको क्या कार्यक्रम था … ऐस केहे हू अस्लम ने अपना डोनो हाथ निशा की ब्रा के साथ और दाल दीजिये और अपने देव में बिता दीया। जईस हि आसाम ने निशा की चुंचिया की मलयाश शूरु की, निशा की चुट जिली होन लगी माजिद झुका और अपना हाथ निशा की चड्डी में दलित हैं। निशा को अचल छुआ – अन डोनो ने 2 सोलो मुझे कभी नहीं किया था था। वाह दारा गेइ, सोचने लगी – हे, अब क्या होग ?? अगर माजिद को पट चली की मैं दो बेटों की बीच की ज्वाला चिनी और गली होती हैं तो वो क्या सगेगा ?? कया दुर्मीत था की हर लाड़की के साथ का उपयोग करें! आज तक वो सोचि थी कि सरफ़ यूके के साथ ऐसा हो जाता है! माजिद ने अपनी अनजिलन अछी तारः निशा के कुंवारी चुट में हर कनो मेिन फेराइ – निशा एक नाज़ुक शीर्षक की तारा थीबाद लागी; असलम ने उसमेमो को ज़ोर से दबया और उसका इस्तेमाल नहीं किया गया है। निशा के मोहो से कर नज़दीकी लगी कुचरे बुरा मजीद ने अपना हाथ निकल और अपनी अनलिलाई निशा की नज़रून की सफलता फेलिए – निशा ने कोई एक ची नहीं है कि मैजिक की अनग्लियॉन पर विफल हो गया था। वो शर्म्याय, उपयोग कीजिए जो कि रास पेशे हैं.माफ करना! निशा बोली। माजिद और असलम समझे गेके की निशा च्लू लादीकी थी, लेकिन नडन भी थी। यहीं भी नहीं तोड़ थी कि क्या पानी की सेक्स की थी, पचास नहीं है। मजीद हंस, और बोला … ऐरे यार, क्या ये ये क्या है? निशा की नज़र जीरी थी – नहीं, वो बोली। अस्लम: जब जोड़ी के बीच में घोडसता है तो उमा मट्टब टूमर बारन तूस कुचा के राहा है निशा। की नज़र उही और बोली – क्या कह रहा है? मजीद ने यूके चेहर पर अपनी रास भरी अनलिला विफलै और बोला – तम्हारा बदन की राह है जो कि अब तक है, वो तुझसे कह रही है कि मैं मेरे आतुर बाना है। निशा को ये कु छ भी समझा नहीं आ रहा था। मजीद और असलम ने सबकुछ बताने ना चुटते थे, यूके प्रोफेसर के साथ अनुबंध था की वो निशा को बिल्कुल नाना राखेज। पार का उपयोग करने के लिए कुच ना कुच से बठाना हॉग ना … शाहिर को उसके साथ क्या नहीं हो सकता है, जो कुछ भी करने के लिए और नहीं चाहते हैं। अस्लम बोला: आहा, ये बतओ (निशाने का शर्ट का उदय डाया, और ब्रा के कोहोल के साथ ही मेरे माँ के ऊपर उठते हैं खेंगे कार प्यार निकल, ताकी व भी भी गोल, और भी कडक, और भी चुसकड़ लैग हैं) …। जब मुझे पता चला था (असलम ने हमें डोनो निप्पल को एक साथ मुह में लाया और उसका इस्तेमाल किया गया था) … क्या तुम कुछ नहीं जानते हो? निशा दर्ड से चीखी !! असलम और मजिद की वजह से ये, मेरे कहने वाले निप्पल के साथ मेरे ही मूह में लीक दाटन के बीच में बहुत बड़ा डर था। एक ख़त्म गर्म को दोसरा शू गरम। Usay ये बहुत पासंड था, पार बहत दाद भी हो था था। माजिद बोला: क्या अच्छा है, नाच बघा, निशा बोली: हां, बहुत ही हैं, पर पटा नही कयोन? अब माजिद ने डोनो निप्पल मोहो मेरे प्यार और चुओ चू की कि ओझ कारक प्यार करती है, जाइज यूके के बडे बडे मैमे दोदारे से भरे थे और मजीद सालेन से प्यार था। अस्लम बोला: अब अगर सर्फ हू डोनो ही नहीं, अगर …। उम्मम … आइसा मानो की … .जगर माईजीद नी हमके को मुहर से बाहर निकल और जहर से निप्पल पर चाट मरारा … माजिद बोला: अगर तुम कुम्होने को लेकर तुममें जन्मदिन पर भी और वो भी तुझे बन्ने कर रहे थे तो तुमसे चुप हो जाओ क्या लागेगा क्या बच्चा? ये सुकर निशा की चुट में से ज़ोर्डार पानी की लहर बारस पाडी है। मजीद ने कहा मुओ की बात चीन ली थी! निशा ने ये ये किटनी बार सोचा था कि क्या एक कॉलेज में मुझे आये जाये और शायद के लिए इस्तेमाल किया और मेरे दोस्त मुझसे भी शायद वो भी अपना बच्न को सहने। निशा शर्मके बोली – हां। माजिद और असलम का लूडा और भी बदा हो गया था ये सुन्के। निशा चलो टू थी, ये एक प्यार था, पर अब हम सब एक साथ रितिक के साथ प्यार निहारना दे रहे थे। माजिद नी निशाना चड्डी उपयोग और आसाम ने निशा की चुटकी की मिलती हुई थी और अनिलि फ़िरना शूरु की। फ़िर असलम ने अपन कन्धन परुथा और मजिद की जीप की पिचली सीट पर बिधा दीया का प्रयोग किया। जीप के कांच का है, वो है से अगर कोई भी पास भी जीप की और और कुछ चींसी रांदी को नही दिखते। असलम ने नीशा का शर्ट उपयोग दिये और उस्की ब्रा का बटन खोले दय। माजिद ने उस स्कर्ट उतरा दीया निशा को अब तक शर्म और लगी 2 सल मुझे ऐपन मममे नंगे दिखेन की आदात हो चुकी थी, पर ऐस कब वाली वो भी ऐसी मर्ड की संख्या नंगी नहीं थी। यूके ध्यान में आया, जब वो असलम और माजिद को अग्ररे बस में मिले थे, तो एक बॉल था, क्या तुमने नंगी हो गया माँ हैं, नचोगी टैब भी शर्मोगी क्या? और अब … 2 सोलान बड़, वो अन डोनो के नाम नागी बात थी। डोनो ने हमें एक एक जोड़ी को लीया और विफलता और हमारी चुटकत की रेखा दिखाई देती है। निशा की आंखें बैंड थी … का उपयोग बहर शर्म आ रहा था। उस्की चुट की गौई में नय नाय अरमान यूथ होती है। असलम और माजिद की अनलिलाई भी़की के साथ साथ खेल थी और हमारी चुट से लड़ते हुए रस की बहरीष हुई जाये थे। सली को चुनने का इटान आदमी कर आता है – माजिद बोला। सब्बर कर यार, पूच्छा है ना अर्जुन सर को अगर हम शंियेर को आह में – असलम बोला। निशा अस्लम हैमत बधा के बोली – चड्ना मतब्बत क्या? माजिद: उम … यूके मटैब … मैटलैब … असलम: सरणी बच्चे, उमा मैटबूत टूडे लेडी से आरुरत केले। निशा को समझा नहीं आ रहा है ये बात: आइएसएईईईईईटी हैती? माजिद बोला: हर लाडकी के 17 वें जन्मदिन पर कुच लाकी मिलके का उपयोग करें, अरुंद बनते हैं। निशा को अंचंभ हुआ: हर लद्दी ऐस कार्ती है? असलम: हर लादीकी नहीं, परतुम की जौसी ख़ूबसूरत लड्डी को झरूर ऐज़ कार्ती है वर्ना लाड़की होन का फ़ायद या क्या है? हम्मे तुझे सा खेलते हैं, क्या तुम लागा ना ना? अब सोको, हमेरे सब लोग मुझसे मिलते हैं, आप के साथ हैं और मेरे किराना मजा आएगे? अब और कोई सब्बल नहीं जीन … कुच सावल ऐपने जानमदीन के लिए भी रखी! हम सब मिलकर तुम समझा डेज! ऐस केते हुए असलम और माजिद ने आपी जीभ अपन होटो पे सेहलाई और निशा केममो को फिर से रागदार के साथ चुट से पानी चुटवाया। अब निशा शाइवर का आभास से लेकर रहती थीं शाहिर के दिन निशा असलम के घर आइ। माजिद और असलम ने उस लड़के कपदे भी ला राखे। ब्रा – यूके साइज से 3 आकार छोटा, यूके ममे आधे से भी ज़्यादा ऊपर से निकल आ रहा है। शर्ट – फ़िर से यूके आकार से 2 आकार का छोटा, और बटन को यूस्की नाभी से शरु हो गया। Puray शर्ट मेरे शिर 3 बटन, कोई भी बटन ना था। निशा ने कोई शर्ट पहल वाली नही अगं थी। यूके छत्ती और भी बडी लग राही थी, ऐस लीग अभी था कि यूके ममे यूके शर्ट और ब्रा से लायी कर रहे हैं। एक छोटी सी चड्डी भी असलम और माजिद ना, पर भी और पहले के काग़ज़ इटान तांग थे के बारे में! निशा ने साचा, सर चड्डी जाने क क्या मटलाब हुआ जब सब कुच से दिख रहा है। पीखे कप के के नाम पर सरफ एक पटी थी, और वो पट्टी में ही गाण्ड के गलाल के बीच घसी जाली थी। आज के कपास से होती है सब कुच दीजिये, – वो चुट के हैं, हमे होटोन के बीच में से निकलती हुई उक्की गती – सबकुछ दिख रहा था! अब हम स्कर्ट पेहना – स्कर्ट था या बाट बेल्ट? मुस्किल से 6 इंच लांबा! अगार वो भी भी मूडी यूटी के जवानी साब धोखे में! शर्म भी ए होती हैं का उपयोग करें और भी तुम्हारा भी आ रहा है।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Shanu ki chudai ki kahani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *