अलका चाची की चुडाई की कहानी

0
61

मुख्य बचपन से अपना गान मुझे रीहता था, केवल perents shehar मुझे rete hain.meri किशोर chachyan hain.pushpa, usha और alka .alka साबित चौथी है। चाकची का रंग थाला है, एचएक्स 5,6 हाइपर unka नाक -क्षा अाछा हैमैटलाब की वू आसी औरत है जिन्को चोड जा सक्त है। अनीकी शादी 17 सल की उमरे मुझे चाचा से हो गया था थी। मुख्य 10 सालों का था। ये घर पाँच सल फेले की है। मेरे मुथ में से है, है ही हैं और मेरे मुख्य समाचार पत्र में नायिकाओं की तस्वीरों को देख कर मेरे मुथ मेरा था। .के डिन मुख्य चाची के कामरे मुझे फ्रीज़ मुझे रक्ष thanda paani pine gya.dopaher ho rahi thi, mere chacha, unki ladki और मेरी chachi इतना rahi thi।
उन्हा बेड फ्रिज से कफी सहड़ी था। पंजाब मुख्य पाणि लिन लागा टू चाची का हाथ मेरा लन्ड पे लैग ग्या.माइन दीक्षा चाची इतनी हैैत। मेरे मेर दिमाग मुझे एक मनी आया.माइने निकार रास्ते राखी थी। मैने निककर को अपर कीया और अपन अंडरवियर मी से अपना लुंड निकला.माइंड लुंड को चाची के हाथ से रक्षा दीजिये.पिली बार मैने किस के लिए हाथ पे लन्ड रक्ष की थीं मैं मुझ मज़े आ गया था, लेकून मुझ भी साथ ही मुझे था कि कोई कोई ना ना जाये इलिय्या मैने पाणि की बोटल को बहर निकल लीया, ताकी अगर पक्का जाव से कह दो कि “मेन टू पानी लिन अया था”। लेकीन कोई किसी नबूत नहीं है, मैं चाची के हाथ से अपना लन्ड दले खड़ा था। गा (humara वोल्टेज स्टीबिलर आटोमैटिक नहीं है, जब तक जयादा तेज़ हो गया है कि लाइट कट हो जाने वाली है और वोल्ट से काम करेना हैता है) ऐनकक चाची की आँख खुली, उने चरा दुसार ताराफ थालिली ओएनएक्स मेरी नहीं दिख रही है.लेकिन वू फ़िर करवत में बड़ के किरदार इतने गाई हैं। पंजाब वो कारद्वार बदला था ते उके हेथ ने मुझे लुई एन डी को डाबोच लीया

उन्हा हाथ फ़िर खीर हो ग्या.लेकिन जब मेरे हाथ ने मुझे लन्ड को दबोच से मेरे वर्तमान में एक और मेरा बच्चा लागा। मेरा लुक से पाई निकलाने वाला था, मुख्य बाथरूम में मुझे और थाडी सी मुथ मारी और पाल निकल दीया। के बाब मेरे लड़के के बारे में चीची के सेक्स के लिए क्या जया.माइन रोज़ डोपहेर को चीकी के लिए मुझे पाण के हैं जहां और मेरे लन्दन को चाची से हाथ पे बोल के माजा लेटेक दीइं मुख्य चाची के लिए मुझे इतना रास्ता था। मेरी आँखें खुली से मैने देखे चीछी इतनी हैैत थी मेरी नज़र उके जोड़ी प्रति पड़ी.इने जोड़ी एकदैफ़ साफ और वे उके जोड़ी की अनगलीयो प्रति लाल नाख़ाली लगी थी थी।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Sex ki sachi keemat - सेक्स की सच्ची कीमत

मैं और तुम्हारे प्यार को एक जोड़ी के लिए प्रतिगामी लड़का था। मेरे चेहरे के लिए एक लाख से अधिक पैसे खर्च करने के लिए हर दो लाख रुपये और खड़े हो जाओ, अब मैने लन्ड को एक जोड़ी के अंगुली और अनजली एक बीच रॉक द्य, और लन्दन को उके लीगे रक्खा हो चुके हैं मेरे दबाव से आए हैं और मेरे पिता से बाथरूम में जाकर मुठ मारी.स दीन के लिए चाची मुझे साथ से लेकर बचे हुए थेगी, वो मुझ्गे चिधी लगी.मेजगे लग ची श्याद चाची को मेरी हरकत का पीता चाला गया है। मैने चला गया कि किस से ची चाची के साथ ही कोई नहीं करूँगा। मैने चाचा के लिए मेरे बेटे छोड दीए। 1 साल बीत गया। चाची का बर्ताव भी तेक हो गया।
Mere मठ maarne का टेरिका भी बादल gya, मैने pehle heroino की तस्वीर ko पर देख केर मठ मार्ता था, lekin ab Ulta प्रति मुख्य बिस्तर जाने केर hilne lagta aur kisi ke Baare मुझे सोच केर मठ maarta.ye trik मैने isliye isliye apnayi क्यूंकि isse मठ भी जाते हैं है और पानी भी काम निकलता है। हाथ से मुहं मार्न प्रति पाण्य जियाद निकला है, जसीस हामरा शिर कामजोर एचएक्स लागता है। लेकिन मेरि त्रिक का आस्तमल एपी तभी कीज जब आप आप अंडरवियर खुद आहार हो.मैन अब अपनी कहानी पे अता हूं ..गर्मी का मौसम था। मेरे चेच्ची के कैमरे मुझे टीवी देख रहे थे। वह बेहद नींद और लगी और मुख्य कूलर चलो कर इतना गाया था। पंजाब के मुख्य उथ को मैने चित्र की चाची इतनी थी।
वॉक शॉपिंग के के लिए ऐसी थी। पंजाब की खरीदारी करने वाली जती थी अप करने की जाति थाइ.इन्हक्स की सुथरी का कोर्स भी कि है है और उके एक सुंदर पार्लर भी है। मेरा चाची का चेहरे दिख रहा था। यूनेक्स अंधेरे लाल लिपस्टिक लग राखी थी, अकेले गाल गुलाबी लैग होती हैं और न ही पालको पे नीले रंग की का कोललाग़ा हुआ था, जिस्से उकि आँखें चूम राही थी। मेरा अल्टा हॉकर देर से गया और वो देखे किर हेलने लगेंगे और इतनी कहाँ जाई मुख्य चाची को चोद हू। केवल माथ मार्ट हू बेड भील ही असली था और चाची जाग समलैंगिक। दो गुसे मुझे थीं। दो बोली “क्या कर रहे है”? मैने kha “कुछ नहीं” .फिर चाची की नज़दीक मेरी निकरे प पड़ी, मर् लन्ड ख़ादा हुआ था जस्सी वाजेस से निकारे भी तांबू की तराह खादी थीं। चीची ने कहा “सच्चा साच बटा द वर्ना मुख्य तेरे चाचा को बता दोओंगी की तू टु lete रंग hil RHA था “.maine खा” नही plz, चाची .mujhe maaf केर करते हैं, मुझे पीटीए नही क्या हो gya tha.aap जो भी kahogi मुख्य कर्न को teyaar hu प्रति plz चाचा को चटाई batana “.chachi ne खा” अभी क्या किया तुम्हे ” मैने खा “आप जो bologi, मुख्य wo karoonga प्रति चाचा ko तु बात चटाई batana plz” .chachi ne खा “theek hai, चल apni Nikker nikal” .maine खा “क्यु चाची”। ********** के बाके, निकलता है या बट्टू तुझे “। मीना अपनी निककर डि, ऐ अंडरवियर और बनियन मी था। ********** अब कछा उतार”। मैने ख़ै “नहीं चाची”।

चाची ने मेरी टैरफ गौरा प्रति मेन अंडरवियर नहीं होता। चीखी आधे बदली और मेरे अंडरवियर केंच दिया.आब मेरा 5.5 इंच का लुंड चाची को दिखे दीन लागा.छाका चाचि ने मेरा लुंड पक्का लिया और मुख्य तड़प उथ। मेरा बॉला “प्लज़ चाची छोड करो “। चाचा ने गूस मुझे मैं” काई छोड दू, 1 सल से मुझ परसेन कर रक्खा है। “छोड दो तुझ कामिनी”। फिर फर चाची मैं लन्ड को जौोर से मसलाने लागी। मेरा करड़ा है, वह हर चाक लुंड को लैगेटर आगे पीछे केर RHI thi.aaj अलका चाची apne हाथ से मात्र लंड ko मठ merwa रही थी, मुख्य जन्नत मुझे pahuch gya tha.chachi Itne tezi se लंड ko Masal RHI थी मनो juicenikal राही हो।

चाची बीच के बीच में मुझे मुझे देखती हैं “आज तेरा सारा माल निकल करूंगी, बहुत मर्द बेंनेगागा हैं ना, अब बाच के दिखे”। मैने कहा “चाचा मेरा निकलने वाला है, मेरा जान करो”। चाची और जर से प्यार करने वाली मस्लने लगी । और बोली “निकल आज तू कामिनी, आज तेरा साड़ी मार्डंगी निकलनी है मुझे”। मुज नियंत्रण नहीं किया और मैने पाणि छोड दीया.लंड से एक धर निकल और सीधा अल्का चची के चेहर पे गिरी.फिर चाची नेगीब बहार निकल और मुह की आसा पास लगे पानी ko चैट liya.chachi ne लंड ke uper की khaal ko पीछे kheench दिया aur मेरा पानी से bheega हुआ Laal supada बहार निकल aaya.alka चाची ke मुझे muh पानी आ gya aur wo मात्र supade ko chumne लगी।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  बेशर्म माँ की चुदाई
loading...

फिर wo मात्र supade प्रति apni jeebh firane लगी aur लंड ko uper से Neeche तक चाटने lagi.maine खा “बस चाची” .alka चाची ne ka “ऐसे kaise छोड़ दो डु तुझे, अब के लिए प्रहार तक मेरा दिल नही भर jata टैब तक नही जाने doongi “.unhx अपना मुह खला और अपना लुंड अपने मुं ली लीआ और लुंड को औरर बहार कार्न लागी। चाक ने मुझे मेरे बिस्तर पर लीटा दीया और अपना जोड़ी क्या पाजब निकल और मेरी लन्दन में कासे के बाँध दी.फिर चची ने एपन जोड़ी मेम लंड पे रक्षा दिये और जोड़ी से लुंड को एसह्लेले एल एगी। चची ने पूछ “मजा ए आधा है”। मैने खा “हां चाची, बड़ा महीना आ रहा है धन्यवाद” .फिर चाची बिस्तर प्रति कह़ड़ी हो गया और मेरी लन्दन के ऊपर ही जोड़ी लग रही है और इससे ऊपर से नेहेसे तो लन्ड को अपन कॉमल जोड़ी से मसले लगी मनो जसीस कप्पडे प्रेस के किरदार में हो। मी लंड से पाल निकल गया और चाची के जोड़ी पे लैग ग्या।

चाची फर से नेहे बात गैई अरलुन्द को चूसे लगी। मीरा लुंड मुर्झा के चोटी एचएक्स लागा टू चाची ने मील लुक पिक थप्पद मेरे जिस्से मेरा लुंड थोड़े खाड़े हो ग्या.चाची मैं लन्ड पे थप्पद मादर रहीं थी जीस्की गार्मी से मेरा लन्ड एक बहर फ़िर खादा हो gya.ab चाची ne mera baniyan nikal ke faink दिया aur मेरी छाती पे Kerne lagi.phir मात्र लंड ke uper baith gayi aur लंड ko pakad केर apni chut मुझे daalne lagi.maine खा “चाची, तु चटाई करो” wo चुंबन। चची ने मेरे टप्पाद मेरे और अच्छे “चुप केर की पीढ़ी फिर से वेरना तेरे चाचा को बट्ट दोओगी की तू मुझे काम करने वाली मुठ मर्तिका है”। चाची मुझ ब्लैकमेल करी री थी और कुछ बहुत कुछ नहीं कर रहे थे। चीची ने लन्द को चुट मुझे गौसा लीया और तेज तेज़ उछलने लागी। मीरा लुंड चट के औररहहरहेंगागा।

चाची के मुह से आवाज़ अ रे थीआ..मार गई..रे..आह .. “। मुझ भी देद हो रहे थे, मुख्य भई” आह “केर प्रेम थी चाचा ने मेरे चुंबन की मेरी और तुम्हारी अवाज़ दब di.unhX केवल चेहर हर एपनेर के लिए स्तन दिये और मेरे चेहरे पर रगड़ने लगी। मैने भी उने स्तन को चेसें हुरू के दिये.माइन अनके निपल्स को भी चुस और बहुत डर तक चुस्ट रिचा। लैगेटर मात्र अपर उचलारे थे और केवल लुंड से खुली हुई को चुडवा शाही थीं.फिर मेरे लौगा जाये लन्द पे तेज़ाब से, जिंदा है, मुख्य समस्या ज्ञान की चच की चुट ना पाछी छोड दिये है। थोडी दे लाबाद मेरे लुंड से भी पाल निकल गया और चाशी की चुट मुझे Chala gya.jab chachi uthi to maine dekha ki chachi ki chut paanimsehehehi hai.pir chachi ne mujhe authay aur khud do gay gayi.unhX mehe apne uper aane ko kha.ab मुख्य alka chachi ke uper thachachi ne mujhe kas ke apni बहुत मुझे ली लीया और मेरे चुंबन कार्न लागी, भी भई चाची को चुंबन लेनागागा।
वो मेरे पीते को सहोदर राही थी और अपन नाखूनों से नूच रिहा थीं.माइं चाची के चुक्के चुस असली था। नकली दिल तेरे थे, हाय करते हैं.फिर चाची ने मेरे आफ़ीर से तूता और घोड़ी कतरारा बिस्तर प्रति बहत गेइ। अपन पेकेहे आये को को ख़ैम अक्के पेचेहे जाए खा खादा हो ग्या.उन्हें मेरे लुंड पाड़ और अपी गान्ड दे डाले लागी। उ एक लंद नहि जा रिधा था उहिनु देखे खा “ओ अदर दाल”। मैने लुंड को गेंडा के शिड पे रक्खा और गेंडा पे फ़िराने लगैगा। चची ना कह “अंदर डाल”। मुख्य मुकाम हाय लन्ड को गेंद पीरगढ़ रिचा। चीची ने फिर से “क्या कर रहे है कामिन, औरर दाल” .मैन चाची को तड़प से थे और चाचा पानी से प्यार तडपटी मस्तली की ताड़प रहीं थी। मैने कहा “पीले प्लज़ बोल”। चची से भर नही जीय और बोली “प्लज़ मे राजा ..मेरी बाबू..ऐंडर डाल”। मुझ्े उस़की हलाट पे दर एया गाया और मुख्य लन्ड को डाइरे थेरे और दहेले लागा.जाइस जई लन्डे औरर जा सकते हैं, चाची की ताड़प बधरे थी। मैं अपना लेगा की लन्ड आधे से जियादा और jaa Chuka hai मैने एक jor से Dhakka मारा aur लंड पुरा एंडर चला gya.chachi की चीख निकल गयी “haayee.maa ..mar gayi ..”। aur मुख्य jor jor से Dhakka maarne laga.chachi ne खा “banenchod को .. डाइरे .. डाइरे .. मायर “
प्रति मुख्य बिना राक स्पीड के साथ लन्दन को औरर कहकर प्यार था। कुचरे तुझे चाचि को भी मेरा अजनगा था और वो बोली “हां..इसे हाई राजकुमारी..हा शाबाश ..”। केवल दिमाग मुझे एक विचार आया। मैने अचानक ढक्किका मर्ना बैंड केर दीया और लन्ड को निकलने लागा.चाची बोली “क्या हुआ बहनोगोड, निकल कूढ़ा है..चाल धोक़ार”। मैने कहा “है क्या की गारेंटी है की मुख्य अपना मझा द और आप मेरी बात चच को नाही बाटोगि “(चाची को आसा गया माओ जईस वो कैसी ट्रेन मुझे खादी की के साथ बधे के हैं, मजा लेते हैं सफ़ारी के किरदार में हो और अचैनैक ट्रेन रुक गेई हो।) चची ने कहा” मुख्य वाडा कर्तनी हू की अगू टू हुई मज़े मुख्य तेरे चाचा को se तेरी शिकायत नही karoongi deta रहेगा “.maine apne पास पीडीए हुआ स्कूल बैग Khola (schoo भीख माँगती हूँ unki लड़की का था) aur प्रतिलिपि aur कलम nikala aur चाची ke पास Patak diya.maine खा” प्रति likko aur हस्ताक्षर करो है “। चाची की हलाट टू फेहल से ही तेरे थे, उनी गाण्ड मैं लन्ड का मजा लिने के लिए हमारे साथ रहती थीं। यूं पे पेपर प्रति” मी ऐन अलका तु वाडा kerti हूं की मेन अंकित को apne saath सेक्स Kerne ke liye मजबूर किया था, अंकित की ISME कोई Galti नही है “.aur फिर unhX हमें कागज पे apne संकेत केर diye.chachi ne gusse मुख्य खा” हो गए Khush, अब मुझ से माजा डे करो “

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Bus mei mili apne bed me chudi - बस में मिली अपने बेड में चुदी

मेन कागज को apne muh मुझे rakkha aur चाची की gaand मुझे लंड ghusane laga.is baar लंड aasani से एंडर Ghus gya.main abhut Khush हो RHA था मुख्य jor jor से अलका चाची की gaand मुझे लंड एंडर बहार Kerne लगा। चाची चिली राय थी “आह..हां ..शाबाश … .आह..मज़ा आ ग्या ..” 10 मिनट के मेरे दबाव में और मेरी मक्का खाई “मेरा निकलाने वाला है”। चाची ने कहा “अपन्ना लुंड निकल डे” मैने लन्ड को गंड से कील दीया.चाची भी साईं सीधी बाई हुई और मेरी लन्ड को मसलाने लगी। लाउण्ड पुरा गर्राम हो चुका था और मुज रीका नाह जा रिच। चीची मुझे चेहर को देख रहा था, एक पीते प्यार ग्या की निकलले wala है, इज़लीए ओएनएचएक्स अपना मुहहोल लीया.के गरम धर लुंड से निकल और चाचची के मुह में गायी और कुच चेर पे। चाचा ने मुझे सारी पाई लीआ उह चेहले के साथ प्यार हो जाएंगे, अपी जीभ से चैट लीया.फिर चाची लन्डे के सुरदे को चुम्ने लगी और लन्ड को चैट चैट केर साफ केर दीया.अल्का ने मैं लन्ड पे लिपटी अपनी पाजाब खोली और अपना जोड़ी मुख्य पायन ली .alka ne kha “अब तुम्हे लन्द पे मेरे utna hi hi है, जितना तुमली पट्ठी की हो। मैने कहा” धन्यवाद “। फिर मैने अपन कपे अगेन और पेपर को निके मेरे राखी लीया.कारुए बालोको को थे केर राही ते और मेरे देखे देखे मुबारक़ा राही थी। मैने कागज पेढा और जैन लेगा, बोली को बोलने के लिए, “कल मुख्य राजस्थान जा राही हूं, तेरे चाचा” यै रेंगेटू चलेगा “(राजस्थान मुझे चाची के लिए बाप रहें हैं) मैने ख़” नहीं “। मैने खा” कुनकी तुझे एक गांदी औरत हो, तुम दोसरे कि कामोजी का फ़ाइदि उथती हो चहे वो अपनी ” गलती मान भी आरएचए हो तो तू भी हमें हर समय नहीं करते और दोसर करण है है कि जब तुझे राजेन्त जायें, सेक्स का तडपोग्ी टैब तुम मुझे पत्ते चलेगा मुझे सेक्स भी कुछ भी नहीं समझा, मुझे हम से वक़्त से सर्फ सेक्स ही दिमाग मुझे राहत है।

मेरी उमर हाई ऐसी जईश्मी सेक्स की भूखी हैती.तुम्हें भी भैया उथने की कोशीष की जब्बी टुम को शद्दीषु औरत हो, तुम मुझे प्यार से भी शक की थी ते और माफ की सच्ची थी मुझ पर मेरे साथ नहीं था। कुछ भी कर्ता है..इस्का एक सबूत टू टूम फेहले ही मुगे दे चुकी हो .. “। मैने अपनी निककर से अलाका का साइन किया हुआ काग़ज़ निकला और हमारे दिखेहते हुए रंग गया। हम दिन में मेरे दिल से चीके के लिए मुझे नहीं ग्या और एक है, तुम मेरे पिता के पापों की सरासर मुख्य लड़की ग्या.आज है तो क्या 5 सल हो चुके हैं। जब भी मेरे लिए मुजफ्ता बात कार्न की कोशीश करते है मुख्य बीना कुएं बाओल अपन अपवाद चेल खीर हून
मेरी मे कहानी में आप कैगी लगी प्लज़ मेरे उत्तर वाले करेएगा .. अलविदा !!! कहानी पाधे के लिए अपने विचारों को मुझे जार पसंद है, ताकी हम अपके लिए रोज़ और उसके साथ काम करने के लिए कुछ भी नहीं करते हैं।

Antarvasna Kamukta Indian Sex Chudai Kahani:  Hotel ki special sex service
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here